News Aap Tak

Bengali English Gujarati Hindi Kannada Punjabi Tamil Telugu
News Aap Tak
[the_ad id='5574']

शराब के लिए नहीं दिए पैसे तो, रुड़की के तांशीपुर गांव में ,कलयुगी पोते ने गंडासे से काट दी दादी की गर्दन,

न्यूज़ आपतक उत्तराखंड

  • रुड़की मंगलौर कोतवाली क्षेत्र के तांशीपुर गांव में बीते शुक्रवार को हुई वृद्धा की हत्या मामले में पुलिस ने किया खुलासा, 

  • शराब के लिए पैसे न देने पर दादी से हुए झगड़े में पोते ने दादी की गंडासे से गर्दन काट कर दी हत्या,

  • आरोपी की निशानदेही पर खून से सना हुआ लोहे का गंडासा भी बरामद कर लिया गया,

  • पुलिस ने हत्या के मामले में आरोपी पोते को गिरफ्तार किया

रुड़की के तांशीपुर गांव में हुई हत्या का खुलासा हो गया है. पुलिस ने हत्या के मामले में आरोपी पोते को गिरफ्तार किया गया है. आरोपी पोते ने शराब के लिए पैसे न देने पर अपनी दादी की निर्मम हत्या की थी.

रुड़की: मंगलौर कोतवाली क्षेत्र के तांशीपुर गांव में बीते शुक्रवार को हुई वृद्धा की हत्या मामले में पुलिस ने खुलासा कर दिया है. हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि उसी का पोता रिंकी  निकला है. बताया जा रहा है कि शराब के लिए पैसे न देने पर दादी से हुए झगड़े में पोते ने दादी की गंडासे से गर्दन काट कर हत्या की थी. मंगलौर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर हत्याकांड का पर्दाफाश कर दिया है.

मामले में वृद्धा की बेटी कमलेश ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया था. मामले में मंगलौर कोतवाली प्रभारी राजीव रौथाण के नेतृत्व में 4 पुलिस टीमों का का गठन किया गया. अहम सुराग मिलने पर वृद्धा के पोते रिंकी को नारसन क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया. पुलिस पूछताछ में आरोपी ने जो कहानी बताई है, उसे सुनकर हर कोई हैरान है.

ऐसे की दादी की हत्या: पकड़े गए आरोपी रिंकी ने बताया उसके पिता सिंचाई विभाग में नौकरी करते हैं. बुआ की शादी बिझौली गांव में हुई थी. फूफा प्रकाश की मृत्यु करीब 10 वर्ष पूर्व हो चुकी है. बुआ के हिस्से में करीब 13-14 बीघा जमीन बिझौली में थी, जो हाईवे बनने के कारण महंगी हो गई. बुआ ने रिंकी के माध्यम से 6-7 साल पहले उसमें से 10 बीघा जमीन बेच दी. जिसके बाद तांशीपुर में जमीन खरीदकर रहने लगी.

रिंकी ने बताया उसकी दादी लीलावती कई साल से बुआ के साथ ही उसके घर पर रहती थी. दादा हरनन्दलाल सहारनपुर में सिंचाई विभाग में काम करते थे, इसलिये दादी को करीब 12 हजार रूपये प्रतिमाह पेंशन मिला करती थी. जिसमें से मेरी दादी मुझे खर्चे के लिए हर महीने 7-8 हजार रूपये दिया करती थी. अपनी बुआ से भी खर्चे के लिये पैसे मांगा करता था. शराब पीने की लत थी. जिस कारण मेरे घरवालों ने नशा मुक्ति केन्द्र में भी रखा था.

कुछ समय से दादी व बुआ ने मुझे पैसे देने में आनाकानी करने लगे. जिसको लेकर अक्सर झगड़ा भी हुआ करता था. घटना के दिन बुआ अपनी बेटी को स्कूल से लेने गई हुई थी. घर में काम कर रहे मिस्त्री मजदूर खाना खाने के लिए गए थे, तभी वह घर पहुंचा और अपनी दादी को समझाने की बहुत कोशिश की. जब दादी नहीं मानी तो घर पर ही रखे गंडासे से उसकी गर्दन पर वार कर उसकी हत्या कर दी.

पुलिस को भटकाने के लिए किया ऐसा काम: रिंकी ने पुलिस को भटकाने के लिए अपनी दादी की सलवार दुपट्टा अलग निकालकर रख दिया ताकि पुलिस ये समझे कि दादी के साथ गलत काम हुआ है. साथ ही रिंकी गंडासे को गन्ने के खेत में छिपाकर वापस घर लौट आया. मंगलौर कोतवाली प्रभारी राजीव रौथाण ने बताया आरोपी की निशानदेही पर खून से सना हुआ लोहे का गंडासा भी बरामद कर लिया गया है.

News Aap Tak
Author: News Aap Tak

Chief Editor News Aaptak Dehradun (Uttarakhand)

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram