News Aap Tak

Bengali English Gujarati Hindi Kannada Punjabi Tamil Telugu
News Aap Tak

इलाज कराने के लिए लाये गए पांच माह के कोरोना संक्रमित बच्चे की इलाज के दौरान मौत, क्या ये कोरोना की तीसरी लहर है…?देहरादून के इस मशहूर स्कूल में 4 छात्र मिले कोरोना पॉजिटिव, स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप

न्यूज़ आपतक देहरादून उत्तराखंड

त्योहारी सीजन में कोरोना रोकथाम के लिए विशेष सतर्कता बरतनी जरूरी है। अगर जरा भी लापरवाही की तो कोरोना एक बार फिर पैर पसार सकता है। विशेषज्ञ पहले ही कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका जता चुके हैं, इस बीच एक डराने वाली खबर पिथौरागढ़ (pithoragarh coronavirus) से आई है। यहां जिला अस्पताल में इलाज के लिए लाये गए पांच माह के कोरोना संक्रमित बच्चे की इलाज के दौरान मौत हो गई। बच्चे के माता-पिता नेपाल के रहने वाले हैं। परिजन बच्चे को बेहतर इलाज के लिए झूलाघाट के रास्ते होते हुए            पिथौरागढ़ जिला अस्पताल लेकर पहुंचे थे, लेकिन अफसोस कि मासूम की जान बच नहीं सकी। सीमांत जिले में कोरोना संक्रमित मरीज की मौत के मामले में यह मरीज सबसे कम उम्र का है। इससे पहले गंगोलीहाट में कोरोना से दो साल की एक बच्ची की मौत हुई थी।

नेपाल निवासी नरेंद्र चंद का 5 महीने का बच्चा प्रशांत चंद बुखार और खांसी से पीड़ित था। बच्चे की तबीयत बिगड़ती देख नेपाल के चिकित्सकों ने बच्चे को हायर सेंटर रेफर किया। रविवार को परिजन बच्चे को जिला अस्पताल ले आए। यहां एंटीजन जांच की गई तो बच्चे में कोरोना संक्रमण (pithoragarh coronavirus) की पुष्टि हुई। इलाज के दौरान रात 2 बजे बच्चे की मौत हो गई। कोरोना संक्रमित बच्चे की मौत से सीमांत क्षेत्र में खलबली है, लोग डरे हुए हैं। कोरोना को लेकर चेक पोस्ट पर की जाने वाली जांच-पड़ताल के दावों पर भी सवाल उठ रहे हैं। 5 महीने के कोरोना संक्रमित बच्चे को उसके परिजन नेपाल से जिला मुख्यालय ले आए, लेकिन इस बीच किसी भी चेक पोस्ट पर इनकी जांच नहीं हुई। नेपाल से हर दिन सैकड़ों लोग भारत में आवाजाही कर रहे हैं, इसलिए संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है। हालांकि स्वास्थ्य अधिकारी भारत-नेपाल सीमा पर आवाजाही कर रहे लोगों की नियमित जांच के दावे कर रहे हैं।

देहरादून दो हफ्ते में  मशहूर स्कूल में 4 छात्र मिले कोरोना पॉजिटिव, स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप दो हफ्ते में स्कूल के आठ छात्र कोरोना पॉजिटिव मिले हैं,

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच स्कूलों में पढ़ाई शुरू हो गई है। छात्र कक्षाओं में लौटने लगे हैं, लेकिन कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। प्रदेश के कई स्कूलों में छात्रों के कोरोना पॉजिटिव मिलने के मामले सामने आ चुके हैं। दुनियाभर में मशहूर द दून स्कूल में भी छात्र लगातार कोरोना पॉजिटिव मिल रहे हैं। बीते दिन यहां चार और नए छात्रों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। लगभग दो हफ्ते में स्कूल के आठ छात्रों में कोरोना संक्रमण पाया गया है, जिससे स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा है। सभी संक्रमित छात्रों को स्कूल में ही आइसोलेट किया गया है। बच्चों की देखभाल स्कूल प्रबंधन की ओर से की जा रही है। स्कूल प्रबंधन के साथ ही स्वास्थ्य विभाग भी स्थिति पर नजर बनाए हुए। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. राजीव दीक्षित ने द दून स्कूल में कुछ छात्रों के कोरोना पॉजिटिव मिलने की पुष्टि की। उन्होंने बताया कि लगभग दो हफ्ते पहले द दून स्कूल के छात्र चंडीगढ़ से लौटे थे।

जिन्हें नियमानुसार स्कूल में ही अलग कमरों में आइसोलेशन में रखा गया था। दो छात्रों की आरटीपीसीआर जांच में कोरोना की पुष्टि होने पर बाकी छात्रों और उनके संपर्क में आए स्टाफ की भी कोरोना जांच कराई गई। जिसमें दो और छात्रों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। इसी तरह अब बुधवार को तीन और बृहस्पतिवार को एक छात्र में कोरोना की पुष्टि हुई। राहत वाली बात ये है कि फिलहाल संक्रमित मिले सभी छात्रों की स्थिति सामान्य है। सभी छात्रों को स्कूल के ही आइसोलेशन कक्ष में रखा गया है। स्कूल का मेडिकल स्टाफ छात्रों की देखभाल कर रहा है। स्वास्थ्य विभाग भी संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए जरूरी कदम उठा रहा है। बात करें पूरे प्रदेश की तो बीते 24 घंटे में प्रदेश में सात नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। कल सात मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। प्रदेश में सक्रिय मरीजों की संख्या घटकर 146 हो गई है।

News Aap Tak
Author: News Aap Tak

Chief Editor News Aaptak Dehradun (Uttarakhand)

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram