News Aap Tak

Bengali English Gujarati Hindi Kannada Punjabi Tamil Telugu
News Aap Tak

उत्तरकाशी जनपद के विकासखंड चिन्यालीसौड़ के गमरी,दिचली क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को लेकर मुख्य 9 सूत्रीय मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन उपवास पर

शूरवीर सिंह रांगड़ चिनियालीसौड उत्तरकाशी न्यूज़ आपतक

उत्तरकाशी जनपद के विकासखंड चिन्यालीसौड़ के गमरी,दिचली क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को लेकर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत गमरी. दिचली विकास समिति के बैनर तले समिति के संयोजक जीतसिंह भड़कोटिआज क्षेत्र की मुख्य 9 सूत्रीय मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठ गए ।

उन्होंने बताया कि टिहरी बांध की झील के समीपवर्ती क्षेत्रों में हो रहे भू -धसाव के कारण धरासू -जोगथ मोटरमार्ग कई  स्थानों पर क्षतिग्रस्त होने से यातायात प्रभावित हो रहा है। जिसके लिए वर्षों से चली आ रही वैकल्पिक गैलाडी़ से कोटीसौड होते हुए अनौल गांव तक  मोटरमार्ग  सहित कोटिगाड़ से जोगथ किलोमीटर08 पर शीघ्र कार्य प्रारम्भ किया जाए।

पट्टी गमरी,दिचली क्षेत्रों के मोटर मार्गो के निर्माण से छतिग्रस्त खेतों का प्रति कर किसानों को शीघ्र दिया जाए। क्षेत्र के लो वोल्टेज की समस्या के लिए थौला कुमराडा़ में 33 केवी का सब स्टेशन खोला जाए।

गमरी दिचली क्षेत्र के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए विकास खंड कार्यालय खोला जाए एवं झील के ऊपर बने आर्च ब्रिज के समीप अमर शहीदों की याद मे   अमर शहीद पुष्प वाटिका का नवनिर्माण किया जाय। टी एच डी सी द्वारा झील के समीप वर्ती क्षेत्रो में सड़क के किनारे क्रॉस बैरियर/पैराफिट सहित जाले लगाए जाय, जनपद टिहरी एवं उत्तरकाशी के मध्य एक मेडिकल कालेज का निर्माण किया जाय।

अगर शासन प्रशासन द्वारा उक्त मांगो पर शीघ्र कार्यवाही नही की जाती है तो उक्त आंदोलन को आमरण अनशन में बदलकर उग्र कर दिया जाएगा।

इस मौके पर प्रधान भडकोट शिवराज बिष्ट, विजय प्रकाश भट्ट पूर्व प्रधान भडकोट, कृष्णा नौटियाल व्यापार मंडल अध्यक्ष, कमल नौटियाल पूर्व प्रधान बादसी,ल गंभीर पाल परमार वरिष्ठ पत्रकार आदि उस्थित रहे।

Shurbeer Singh Rangar
Author: Shurbeer Singh Rangar

News aaptak Chinyalisour Uttarkashi

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

गृह मंत्री श्री अमित शाह जी के आज मध्य रात्रि उत्तराखण्ड आगमन के पश्चात उन्हें बीते 2 दिनों में आई दैवीय आपदा से हुए नुकसान एवं राहत और बचाव कार्यों का स्वयं भ्रमण कर जो आंकलन किया था, उसके बारे में अवगत कराया।